लोकप्रिय पोस्ट

मंगलवार, 1 मई 2012

अगर यकीं है स्वर्ग पर हे ईश्वर { tanu thadani}





hey eshwar (tanu thadani)

अगर यकीं है स्वर्ग पर

 ,
जीना फिर इस तरह,


तुम्हारे लफ्जो से कोई 

,
आहत कभी ना हो!



भगवन उसे मिलेगे,


जिसके दिमाग में,


भगवान के आकार की 

.
चाहत कभी ना हो!



आता है गर क्रोध तो 

-
कमज़ोरियो से लड़ !


प्रेमी अगर हो सच्चे ;


तो माँ से प्रेम कर !





ईश्वर को तूने भोग लगाया तो क्या किया?


मूर्खो की तरह सूर्य को दिखाया क्यों दीया??

काबिल हो गरं,


दूसरों को काम दो बन्धु !


अब मंदिरों की घंटी को,


विराम दो बन्धु !!





मंदिर में ना जाना कभी मस्जिद में ना जाना


ईश्वर को ढूढने को

,
माँ के पास ही जाना !


माँ में ही तो रहीम तुम्हे राम मिलेगा

 ,
माँ के निकट ना कोई ताम-झाम मिलेगा !!



दुनिया की धुर्त्ततायें जब तुम को करे बेहाल,


माँ की ही गोद में तुम्हे आराम मिलेगा !!


tanu thadani: hey eshwar (tanu thadani)
http://tthadani.blogspot.com/2011/03/hey...

6 टिप्‍पणियां:

  1. आज 18/06/2012 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक निवेदन
    कृपया निम्नानुसार कमेंट बॉक्स मे से वर्ड वैरिफिकेशन को हटा लें।
    इससे आपके पाठकों को कमेन्ट देते समय असुविधा नहीं होगी।
    Login-Dashboard-settings-posts and comments-show word verification (NO)

    अधिक जानकारी के लिए कृपया निम्न वीडियो देखें-
    http://www.youtube.com/watch?v=VPb9XTuompc

    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. अच्छी अभिव्यक्ति............

    शुभकामनाएं तनु जी.

    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. .

    आता है गर क्रोध तो -
    कमज़ोरियो से लड़ !
    प्रेमी अगर हो सच्चे ;
    तो माँ से प्रेम कर !


    मंदिर में ना जाना कभी मस्जिद में ना जाना
    ईश्वर को ढूंढने को,
    माँ के पास ही जाना !
    माँ में ही तो रहीम तुम्हे राम मिलेगा ,
    माँ के निकट ना कोई ताम-झाम मिलेगा !!

    दुनिया की धूर्त्ततायें जब तुम को करे बेहाल,
    माँ की ही गोद में तुम्हे आराम मिलेगा !!

    वाह वाऽऽह… !

    सुंदर शब्दों से सजे सुंदर भाव …
    बहुत खूबसूरत !

    आदरणीय तनु थदानी जी
    नमस्कार !
    आपकी मातृ-भक्ति वंदनीय है … … …
    आपकी इस रचना की जितनी प्रशंसा की जाए , कम है …
    बहुत सुंदर … बधाई !

    …आपकी लेखनी से सुंदर रचनाओं का सृजन होता रहे , यही कामना है …
    शुभकामनाओं सहित…


    उत्तर देंहटाएं